जरा सोचिये ...

क्या सिर्फ सरकार और सिस्टम ही गलत है, हम नहीं ?

हम अपने अधिकारों की रक्षा के लिए उठ खरे होते है, लेकिन अपने कर्तब्यो को निभाना कब सीखेंगे.

हम अक्सर सुनते है देस ने हमको क्या दिया, कभी अपने आप से पूछिए हमने देस को क्या दिया ?

क्या सिर्फ मोमबत्ती जलाने से और नारे लगाने से परिवर्तन या क्रांति आ जाएगी ?

क्या हमको जरुरत नहीं की हम अपने आप को और अपने सोच को बदले ?

हर परिवर्तन की शुरुवात अपने घर से करे

भगत सिंह पैदा तो हो लेकिन पड़ोसी के घर "ऐसी सोच को बदल कर आने वाली अपने पीढ़ी के हर बच्चे में भगत सिंह जैसा देश पर मर मिटने का जज्बा पैदा करे .

लड़के लड़की में भेद हमारे घरों और हमारी सोच से पैदा होता है सरकार से नहीं.

हमारे घरों के पढ़े लिखे लोग ही भ्रूण परिक्षण कराते है

दहेज़ आज भी हमारे घरों में ही माँगा और दिया जाता है

इसलिए परिवर्तन की शुरुवात हमको अपने घर से ही करनी होगी

क्या आप तैयार है ?????

हमारे बारे में

एक अरब से अधिक नागरिकों का यह राष्ट्र आजादी के इतने वर्षों के उपरांत भी अपने खोये हुए वर्चस्वों को पाने के लिए संघर्ष कर रहा है | सामाजिक कुरीतियों,भ्रष्टाचार,धर्मा-धता,जातीयता तथा प्रांतीयता का जहर इसे आगे बढ़ने से रोक रहा है | "राष्ट्र प्रथम " सिद्धांत कही न कही उपरोक्त कारणों से पीछे रह जाता है |
      मानवीय दृस्टिकोण से अक्सर हम मात्र अपने परिवार एवं सम्बन्धियों तक की ही समस्या देख पते है | हम सब अपने पारिवारिक जिम्मेदारियों तथा आगे बढ़ने की अंधी दौर में अपनी सामाजिक तथा देश के प्रति कर्तब्यो को भूल जाते है |"सेवार्थ युवा विकास क्लब " एक प्रयास ,एक संकल्प है हर उस युवा के माध्यम से जो इस समस्याओं को जनता है ,समझता है और इसके लिए वयक्तिगत तौर पर समाज के पिछड़े तथा उपेछित नागरिकों के लिए वयक्तिगत तौर पर कुछ करना चाहता है |किन्तु कही न कही एक हिचकिचाहट और अकेले होने का अहसास उसे आगे बढ़ने से रोकता है | .

  और पढ़े   



चित्र

अन्य चित्र

दान
      

   आपका रक्त दूसरों का जीवन है |





संगत में रहे

©2016 All rights reserved, Website Designed By Euphrasia Technology

   |

Logo Concept & Designed by Bhartiya Yashi

User Login
Don't have an account? Create one now!